मायावती ने चुनाव में हार की मांगी रिपोर्ट, नेताओं में छाई खामोशी

मायावती ने चुनाव में हार की मांगी रिपोर्ट, नेताओं में छाई खामोशी

आगरा: विधानसभा चुनावों में बसपा सुप्रीमो की करारी हार से नेता परेशान है। अब मायावती के आदेश ने भी बसपा नेताओं की नींद उड़ा रखी है। हर महीने होने वाली समीक्षा रिपोर्ट में इस बार हार के कारणों की समीक्षा रिपोर्ट तैयार करना बसपाईयों को भारी पड़ रहा है। रिपोर्ट में सरकारी मशीनरी को दोष दिया जा रहा है। हकीकत को रूबरू कराने में बसपाईयों के पसीने छूट रहे हैं।

बसपा नेताओं की खामोशी

इस बार हुई चुनावी समीक्षा बैठक में मायावती ने सभी नेताओं को निशाने पर लिया था। सूत्रों की मानें तो सभी जोन और जोनल को​आॅर्डिनेटरों से हार के कारणों की जानकारी ली गई। आगरा, मथुरा, अलीगढ़ सहित बृज के 12 जिलों में मिली करारी हार पर कोई भी बसपा नेता हार के कारणों को नहीं बता सका। अब जब मायावती ने हार की समीक्षा रिपोर्ट आगामी महीने में मांगी है, तो सभी खामोश हो गए हैं।

सभी सीटें गंवाई

जिस आगरा में बसपा के कभी छह विधायक हुआ करते थे, इस भगवा सुनामी ने नीले खेमे में ऐसी सेंधमारी लगाई कि नौ सीटों पर कमल खिल गया। गौरतलब है कि साल 2007 के चुनाव में भी बसपा के आधा दर्जन विधायक थे। वहीं 2012 के चुनाव में भी यहीं नतीजे बसपा ने दोहराए थे। अब बसपा का खाता भी नहीं खुला है। ऐसे में मायावती की समीक्षा रिपोर्ट बसपा नेताओं में खलबली मचाए है।



-विशेष संवादाता