वास्तु शास्त्रः अपने घर में मात्र एक बदलाव से आप हो जाएंगे मालामाल

वास्तु शास्त्रः अपने घर में मात्र एक बदलाव से आप हो जाएंगे मालामाल

वेबखबर ब्यूरोः- अपने घर में खुशहाली कोन नही चाहता है ? कि सब ठीक हों, स्वस्थ रहे, सबकी सब जरुरते पूरी हो, और घर में सभी सदस्य खुश रहे. पर कई बार ऐसा हो नही पाता है। हम सब कुछ अच्छा करते है पर सफलता नही मिलती है। दरअसल इसके पीछे वास्तु शास्त्र का बहुत योगदान होता है। लाख कोशिशों के बाद भी आपको वो नहीं मिल पाता जिसके आप हकदार हैं।

हम बात कर रहे हैं वास्तु दोष की जिसका सीधा प्रभाव इंसान पर पड़ता है. अगर घर में वास्तुदोष हो तो परिवार में कलह, पैसों की परेशानी और रोगों का घर में वास हो जाता है.

हम आपको कुछ टिप्स बताने जा रहे है. जिन्हे अपना कर आप अपने जीवन में बदलाव ला सकते है।

1-परिवार के मुखिया और उसकी पत्नी का बेडरूम दक्षिण-पश्चिम, या फिर पश्चिम-दक्षिण में हो. रसोई घर भी दक्षिण-पूर्व या फिर उत्तर-पश्चिम की ओर होना चाहिए.
रसोई घर को अगर वास्तु के हिसाब से बनाया जाए तो भोजन स्वादिष्ट और लोगों की सेहत भी बनी रहती है.
2- पूजा घर और स्टडी रूम उत्तर-पूर्व की ओर हो.
3- घर के अंदर टॉयलेट नहीं होना चाहिए. लेकिन मजबूरी में बनाना पड़े तो उत्तर-पश्चिम दिशा में बनवाएं. सीढ़ियां दक्षिण-पश्चिम में बनी हों.
4- घर पुराने मलबे से न बनवाएं. इसमें नाकारात्मक ऊर्जा रहती है. पुरानी मलबे में जादू-टोने का भी चक्कर हो सकता है.
5- घर का मुंह, उत्तर, पूर्व या उत्तर-पूर्व की ओर होना चाहिए. जिस प्लॉट पर घर बने वह कम से कम वर्गाकार या आयताकार होना चाहिए.
6- हैंडपंप और वाटरटैंक उत्तर-पूर्व की ओर होना चाहिए.
7- बिजली के मुख्य कनेक्शन, इनवर्टर या जनरेटर दक्षिण-पूर्व या उत्तर-पश्चिम में होने चाहिए.
8- प्लॉट की खुदाई उत्तर-पूर्व से और भराई दक्षिण-पश्चिम से करें.
9- दक्षिण-पश्चिम का कोना 90 डिग्री का होना चाहिए.
10- मकान बनाने के बाद वास्तु पूजा या वास्तु शांति पूजा जरूर कराएं.



-विशेष संवादाता